10 Lines Essay On Republic Day In Hindi

It is the first month of the year and biggest event on the calendar is India’s 69th republic day (गणतंत्र दिवस). In this period, one homework school kids get for sure is to write 10 lines on republic day. Sometimes it can be a short 10 line essay, speech or paragraph too.

In the first section, we have given 10+ easy sentences (in English and Hindi) about republic day which will help your kid to complete homework. These are suitable for students of class 1,2,3. We have given few extra lines too, you can choose as per requirement. In Next section, we have it in essay format which is good for students of class 4 and 5. Same is for the Hindi section, scroll down if you are looking for Hindi translation.

10 Lines on/Sentences About Republic Day in English

  1. Republic Day is celebrated on 26th January each year.
  2. On 26 January 1950 Indian constitution came into force. (implemented).
  3. Before this date, India was a British dominion.
  4. After 26 January 1950, we become a Republic nation.
  5. India’s constitution is the largest in the whole world.
  6. It gives us our fundamental rights like freedom of speech, education, religion and more.
  7. Dr. Babasaheb Ambedkar was chairman of constitution drafting committee.
  8. He is revered as “Chief Architect of Constitution”.
  9. Republic day is celebrated with a huge parade at Rajpath, Delhi.
  10. We celebrate it at our school too. We have essay, speech competition too.
  11. We sing national anthem “Jan Gan Man” in school.
  12. I love my India and I will become a good citizen.

10 Lines Essay, Speech, Paragraph on Republic Day for Kids

On 26th January 1950 India’s constitution came into force and since we become a republic of India. Republic day is celebrated to honor the day. On 15th August 1947, India got its independence from British Raj. The country was divided into two separate countries i.e. India and Pakistan. After independence, we didn’t have a constitution so we were part of the British Commonwealth, a British dominion.

Dr. Babsaheb Abmedkar headed a committee and presented a first constitution draft on 4 November 1947. After 2 years of discussions, it was presented at the assembly. Two days later on 26th January 1950, it came into force. Dr. Ambdekar was revered as the chief architect of the constitution for this contribution. Indian constitution defines rules, procedures, rights, and duties of Indian government and citizens.

Note: find a bigger essay, speech on republic day here.

गणतंत्र दिवस के बारे में १० लाइनें / वाक्य – हिंदी में

  1. प्रत्येक वर्ष २६ जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है।
  2. २६ जनवरी १९५० को भारतीय संविधान लागू (कार्यान्वित) हुआ।
  3. इस तिथि से पहले, भारत एक ब्रिटिश डोमिनियन था।
  4. २६ जनवरी १९५० के बाद, हम एक गणतंत्र राष्ट्र बन गए।
  5. भारत का संविधान पूरे विश्व में सबसे बड़ा है|
  6. यह हमें भाषण, शिक्षा, धर्म की आजादी और आदि मौलिक अधिकार प्रदान करता है।
  7. डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर संविधान मसौदा समिति के अध्यक्ष थे।
  8. उन्हें “संविधान के मुख्य वास्तुकार” के रूप में सम्मानित किया गया है|
  9. राजपथ, दिल्ली में एक विशाल परेड के साथ गणतंत्र दिवस मनाया जाता है।
  10. हम इसे हमारे स्कूल में भी गणतंत्र दिवस मनाते हैं|
  11. हम स्कूल में राष्ट्रीय गान “जन गण मन” गाते हैं।
  12. मैं मेरे भारत से प्यार करता हूं और मैं एक अच्छा नागरिक बनूंगा।

गणतंत्र दिवस पर १० लाइन्स का निबंध, भाषण, पैराग्राफ हिंदी में

२६ जनवरी १९५० को भारत का संविधान लागू हुआ और भारत एक गणतंत्र राष्ट्र बन गया| इस दिन का सम्मान करने के लिए गणतंत्र दिवस मनाया जाता है| १५ अगस्त १९४७ को, भारत को ब्रिटिश राज से स्वतंत्रता मिली। देश को दो अलग-अलग देशों में विभाजित किया गया, अर्थात भारत और पाकिस्तान। आजादी के बाद, हमारे पास कोई संविधान नहीं था, इसलिए हम ब्रिटिश राष्ट्रमंडल का हिस्सा थे, मतलब हम एक ब्रिटिश डोमिनियन थे।

डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर संविधान मसौदा समिति की अध्यक्षता कर रहें थे और ४ नवंबर १९४७ को एक पहला संविधान ड्राफ्ट प्रस्तुत किया। चर्चा के २ साल बाद विधानसभा में यह प्रस्तुत किया गया। दो दिन बाद २६ जनवरी १९५० को, यह लागू हुआ। इस योगदान के लिए डॉ. अंबडेकर को संविधान के मुख्य वास्तुकार के रूप में सम्मानित किया गया था। भारतीय संविधान भारतीय सरकार और नागरिकों के नियमों, प्रक्रियाओं, अधिकारों और कर्तव्यों को परिभाषित करता है।

सूचना – गणतंत्र दिवस पर बड़ा हिंदी निबंध भाषणपढनेके लिए यह लिंक फॉलो करें|

इस लेख, वाक्यों, निबंध या भाषण से आपको थोडीसी भी मदद हुई हो तो हमे कमेंट में बताना ना भूलें| हम आपके कमैंट्स पढनेके लिए उत्सुक रहते है|

Liked the Post? then Rate it Now!!

[Total: 5 Average: 4.4]

Republic Day 2018: देश को आजादी 15 अगस्त 1947 को मिली, लेकिन आजाद भारत के लिए एक पुख्ता संविधान की जरूरत थी ताकि देशवासियों के मूल अधिकार, शासन प्रणाली और न्याय व्यवस्था सुचारू रूप से चल सकें और लोकतंत्र को मजबूती मिले। 26 जनवरी 1950 को जब संविधान लागू हुआ तो देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने रेडियो के जरिये दुनिया को संबोधित किया था। पंडित नेहरू के भाषण में देश ही नहीं, दुनिया को, खासकर पश्चिमी देशों को एक संदेश था। पहले गणतंत्र दिवस पंडित नेहरू का वह भाषण बहुत ही दुर्लभ है। आजादी की रात वाला उनका भाषण तो लगभग सभी ने सुना है, लेकिन गणतंत्र दिवस पर उनका भाषण कम ही लोगों ने सुना है।

रेडियो पर अंग्रेजी में दिए उनके इस भाषण में खास तौर पर दुनिया के सभी देशों से चैन और अमन की अपील की गई थी। उन्होंने अपने भाषण मे कहा था युद्ध और शांति की मुहिम एक साथ चलने से पनपे असंतुलन को सुधारना होगा, पूरी दुनिया शांति चाहती है, जिसे देशों को समझना होगा। उन्होंने कहा था कि पश्चिमी देशों के उनके दौरे से यह साफ है कि दुनिया को अब शांति चाहिए।गणतंत्र दिवस पर भाषणों में आज भी हम भारत की शांतिप्रियता और विकास की पैरोकारी की ही बात करते हैं। शांति के लिए सबसे बड़ा खतरा पाकिस्‍तान बना हुआ है। चीन भी भारत को परेशान करता रहा है। इसलिए आज भी शांति के महत्‍व को समझना उतना ही जरूरी है, जितना पहले गणतंत्र दिवस के वक्‍त पर था।

कुछ ऐसा था पहले गणतंत्र दिवस का नजारा: पहला गणतंत्र दिवस दिल्ली के इरविन एम्पीथियेटर में मनाया गया था। इस जगह को अब मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम कहते हैं। इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकानो गणतंत्र दिवस पर बतौर मुख्य अतिथि बुलाए गए थे। पहले राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने जैसे ही तिरंगा फहराया था, तिरंग के फहराते ही दनादन 21 तोपों सलामी से राजधानी गूंज उठी थी।
बता दें कि इस बार (2018) भारत का 69वां गणतंत्र दिवस है। इस बार यह मौका इसलिए भी खास है क्यों कि पहली बार 10 देशों के नेता बतौर मुख्य अतिथि इस समारोह मे बुलाए गए। इनमें ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाइलैंड और वियतनाम के राष्ट्राध्यक्ष शामिल है।

Happy Republic Day 2018 Wishes Images: ये हैं गणतंत्र दिवस की शानदार देशभक्ति शायरी और कविताएं

पंडित नेहरू का पूरा भाषण इस वीडियो में सुनिए।

गणतंत्र दिवस के 10 मुख्य अतिथि: थाईलैंड के प्रधानमंत्री जनरल प्रायुत चान ओ चा, म्यांमार की नेता आंग सान सू की, ब्रुनेई के सुल्तान हसनअल बोल्किया, कंबोडिया के प्रधानमंत्री हुन सेन, इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो, सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सियन लूंग, मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजाक, वियतनाम के प्रधानमंत्री न्गुयेन शुयान फुक, लाओस के प्रधानमंत्री थॉन्गलौन सिसोलिथ और फिलीपींस के राष्ट्रपति ड्रिगो दुतेर्ते बतौर मुख्य अतिथि समारोह में शामिल हो रहे हैं।

Happy Republic Day 2018: गणतंत्र दिवस का इतिहास जानकर हर भारतवासी को होगा गर्व

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

0 thoughts on “10 Lines Essay On Republic Day In Hindi”

    -->

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *